browser icon
You are using an insecure version of your web browser. Please update your browser!
Using an outdated browser makes your computer unsafe. For a safer, faster, more enjoyable user experience, please update your browser today or try a newer browser.

Tagged With: hindi

मै और ‘बापू’….

मै  और मेरे ‘बापू’ अक्सर ए बाते करते है की तुम होते ऐसा होता,

Categories: Hindi, Hindi Poems | Tags: , , , , | Comments Off on मै और ‘बापू’….

“मोहन” का दुःख..

मनमोहन बोले पत्नी से मै भी भ्रष्टाचार खत्म करना चाहता हूँ पर क्या करू देखकर भी

Categories: Hindi, Hindi Poems | Tags: , , | Comments Off on “मोहन” का दुःख..

‘मन’ बोले ‘मोहन’ सें..

“मन” बोले “मोहन” से मै हमेशा “जी- जी” कहता रहता हूँ ।

Categories: Hindi, Hindi Poems | Tags: , , | Comments Off on ‘मन’ बोले ‘मोहन’ सें..

कप के सपने…

आफ्रीद़ी को सपने में भी कप दिखता था पानी का खाली ग्लास भी उसे कप लगता था । जमीन पर पाँव रखने की आदत नही डाली इस बार भी उनकी

Categories: Hindi, Hindi Poems | Tags: , , , | Comments Off on कप के सपने…

गाँधी तेरे देश में…

गाँधी तेरे देश का कैसा है हाल ? झुठ हो रहा है मालामाल और सच हो रहा है कंगाल । गाँधी तेरे देश में अजब चलती है सरकार अनपढ़ गवार राज करे

Categories: Hindi, Hindi Poems | Tags: , , , , | 3 Comments

माँ की ललकार…

शहीद की माँ बोली… गिलानी साहब, एक बार सरहद पार कर के तो देखो रोशन है आज भी मेरे घर का चिराग तो देखों ।

Categories: Hindi, Hindi Poems | Tags: , , , , | 4 Comments

मैच का निमंत्रण.

मोहन के मन में उठी तरंग बोले साहब सें “आओ मिलकर देखे हम मैच संग संग” । साहब बोले “मै जरुर मैच देखने आऊँगा और साथ साथ दोस्ती का पैगाम लाऊँगा” मनमोहन मन ही मन मुस्कराएँ फिर सोचकर कुछ बड़बड़ाएँ

Categories: Hindi, Hindi Poems | Tags: , , , , | 4 Comments

“शीला” की कहानी..

कल सबने खूब रंगाई “शीला” की कहानी विरोधियों के हाथ आई फिर एक बात पुरानी, “शीला” ऐसे ही आसानी सें हाथ थोडी ना आनी राजनिती में सारी उम्र बिती क्यों करते हो बदनामी ॽ

Categories: Hindi, Hindi Poems | Tags: , , | 1 Comment

प्याज का अंदाज…

प्याज बोला कद्दु सें “मै युही छोटा दिखता हूँ पर मै तो अच्छों अच्छों के आँखों में आसू लाता हूँ । मै तो आजकल यारो

Categories: Hindi, Hindi Poems | Tags: , , | 1 Comment

वार… प्रतिवार…

देख के सारा तमाशा “कृष्ण” हो गए “लाल” और मनमोहन ने मारा तीर तो फिर हुआ बुरा हाल । मनमोहन से वे बोले, “प्रधानमंत्री बनना तो हर एक का हक है आपके जैसा कहा

Categories: Hindi, Hindi Poems | Tags: , , | Comments Off on वार… प्रतिवार…
Powered by Aaliya Enterprise