browser icon
You are using an insecure version of your web browser. Please update your browser!
Using an outdated browser makes your computer unsafe. For a safer, faster, more enjoyable user experience, please update your browser today or try a newer browser.

Tagged With: asha

आशा

आशा रोज एक नई सुबह दिल पर दस्तक देती है अंधेरे को चिरते हुए एक आशा की किरण लाती है . सुने पडे आंगन में उम्मीदे बरसाती है तुफानों से लड़ने मेरे मन का दिया जलाती हैं. जग चाहे चिल्लाए – “अब कोई राह नहीं” फिर भी वह मेरे दिल में चलने का साहस बढ़ाती … Continue reading »

Categories: Hindi, Hindi Poems | Tags: , , , | 2 Comments
Powered by Kapil