browser icon
You are using an insecure version of your web browser. Please update your browser!
Using an outdated browser makes your computer unsafe. For a safer, faster, more enjoyable user experience, please update your browser today or try a newer browser.

मॉडर्न कौए…

Posted by on September 9, 2017

बाजु में रहने वाले पंडितजी
के घरसे
कौए जोरसे चिल्ला रहे थे हमने पूछा ” ये क्या हो रहा है ?”
उन्होंने कहाँ
“हम उन्हें ट्रैन कर है।

पितृ पक्ष में कौओ की
डिमांड बढ़ रही है
ग्राहकों की सुविधा के लिए
हमने ये सेवा शुरू की है.

अलग अलग कौओ के
अलग अलग रेट्स रखे है
ग्राहकों के स्टेट्स अनुसार
बुकिंग शुरू करी है.

ऑनलाइन बुकिंग भी हो जाएगी
समय से पहले आपको
डिलीवरी मिल जाएगी।

पेमेंट के सारे
मोड़ खुले रखे है
कार्ड , कॅश ऑन से
कौऐ डिलीवर हो रहे है।

अगर आपको कौआ
पसंद न आए

तो रिप्लेस कर सकते हो
दूसरे कौऐ से
अपना काम करवा हो।

ऐ कौऐ बड़े ही
ट्रैन होते है
खाने में स्वाद और वैरायटी देखकर
ही उसे छुते है।

मॉडर्न दुनिया में
कौऐ भी मॉडर्न हो गए है
अब कौऐ भी
ढकोसला पण सिख गए है।

 

2 Responses to मॉडर्न कौए…

  1. Sarjerao Yadav

    Very meaningful poem . Lot to take from it. Please keep it up ..

  2. Rajeshwari.C

    Nice poem Varsha about crows at the time of Pitru Paksha. Its a firm belief,ancestors come in the form of crow. Its a strong belief,crows act as a messenger to pitru lok.There are many theories woven around crow. When a crow make sounds near our house,people in that house are likely to get guests.Crows are known for their unity.When food is offered, its not a single crow that comes to feed on it but a number of crow comes together and share.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by Kapil